मोनेरा जगत क्या है? | मोनेरा जगत के लक्षण क्या है? | मोनेरा की विशेषता क्या है?

0

मोनेरा जगत क्या है? | मोनेरा जगत के लक्षण क्या है? | मोनेरा की विशेषता क्या है?

मोनेरा जगत क्या है? ( Monera Jagat Kya Hai):- इस Article में आपको मोनेरा जगत ( Monera Kingdom ) के विषय से सम्बंधित सभी जानकारी मिलेगी। जैसे की मोनेरा जगत क्या है? लक्षण, वास, लाभ, हानि, बचाव आदि। तो आइए आगे जानते हैं इन सभी सवालों के "जवाब" के बारे में।

मोनेरा जगत क्या है? ( What Is Monera Kingdom)

परिभाषा ( Definition):- सभी प्रोकैरियोटिक जीवों को मोनेरा जगत में शामिल किया गया है। इस संसार के जीव सूक्ष्मतम और सरलतम हैं। ऐसा माना जाता है कि इस संसार के जीव सबसे प्राचीन हैं। मोनेरा जगत के जीव उन सभी स्थानों पर पाए जाते हैं जहाँ जीवन की संभावना बहुत कम होती है, जैसे कि मिट्टी, पानी, हवा, गर्म पानी के झरने (80°C तक), हिमखंडों की तली, रेगिस्तान आदि।

सभी जीवाणु मोनेरा जगत के अंतर्गत आते हैं। सबसे पहले 1683 में डच निवासी एंटोनी ल्यूवेनहॉक ने अपने सूक्ष्मदर्शी से पानी, लार और दांतों में घिसे हुए मैल को देखा, जिसमें उन्होंने कई सूक्ष्मजीव देखे। ये बैक्टीरिया थे। लिनिअस (1758) ने उन्हें जीनस में रखा। एरेनबर्ग (1829) ने सबसे पहले अपने जीवाणुओं का नाम रखा।

लुई पाश्चर (1822-1895) ने किण्वन पर काम किया और दिखाया कि यह बैक्टीरिया के कारण होता है। लुई पाश्चर ने स्पष्ट किया कि सूक्ष्मजीव पदार्थों के सड़ने और विभिन्न रोगों का कारण हैं। लुई पाश्चर (1865) ने अपने कार्य के आधार पर "कीटाणुओं द्वारा रोगों की उत्पत्ति" के सिद्धांत को प्रतिपादित किया, जिसे चिकित्सा विज्ञान में बहुत जल्द स्वीकार कर लिया गया।

रॉबर्ट कोच (1843-1910) ने सिद्ध किया कि मवेशियों में एनेक्सा रोग तथा मनुष्यों में तपेदिक और हैजा का कारण भी जीवाणु हैं। इस वैज्ञानिक ने पहली बार बैक्टीरिया का कृत्रिम कल्चर किया था। जोसेफ लिस्टर (1867) ने बैक्टीरिया के संबंध में एंटीसेप्टिक राय प्रस्तुत की। अब जीवाणुओं का अध्ययन इतना महत्वपूर्ण हो गया है कि जीवाणु अध्ययन की एक अलग शाखा बन गई है, जिसे जीवाणु विज्ञान कहते हैं।

लुई पाश्चर को सूक्ष्म जीव विज्ञान का जनक, ल्यूवेनहॉक को जीवाणु विज्ञान का जनक और रॉबर्ट कोच को आधुनिक जीवाणु विज्ञान का जनक कहा जाता है। सूक्ष्मजीवों से संबंधित अधिकांश खोजें 1885 और 1914 के बीच हुई। इस अवधि को सूक्ष्मजीवों का स्वर्ण युग कहा जाता है।

मोनेरा जगत के लक्षण क्या है? | मोनेरा की विशेषता क्या है?

विश्व मोनेरा के जीवों की प्रमुख लक्षण (विशेषताएँ) निम्नलिखित हैं।
  1. इनमें प्रोकैरियोटिक प्रकार का कोशिकीय संगठन पाया जाता है। वह कोशिका में आनुवंशिक सामग्री है। यह किसी झिल्ली से बंधा नहीं होता बल्कि कोशिका द्रव्य में बिखरा रहता है।
  2. इन जीवों की कोशिकाओं में झिल्लियों से घिरे अंगक पाए जाते हैं। उदाहरण के लिए माइटोकॉन्ड्रिया, प्लाजम, एंडोप्लाज्मिक रेटिकुलम, गॉल्जी बॉडी आदि नहीं पाए जाते हैं।
  3. इनमें केन्द्रक के स्थान पर कोशिका में केन्द्रक पाया जाता है, जिसे वृत्ताकार DNA कहते हैं। इनके केन्द्रक में हिस्टोन, प्रोटीन तथा केन्द्रक नहीं पाया जाता है।
  4. इनकी कोशिका भित्ति बहुत मजबूत रहती है। इसमें पॉलीसेकेराइड के साथ-साथ अमीनो एसिड भी होता है।
  5. इनमें केन्द्रक झिल्ली अनुपस्थित होती है।
  6. इनमें जनन प्रक्रिया प्राय: अलैंगिक प्रकार की होती है।
  7. इनमें परिसंचरण कशाभिका या कशाभिका द्वारा होता है।
  8. माइटोकॉन्ड्रिया, गोल्गी निकाय और रसधानियाँ भी इनमें अनुपस्थित होती हैं।
  9. यौन प्रजनन अक्सर अनुपस्थित होता है, लेकिन कुछ मोनेरा जीव जीनों को पुनर्संयोजित करते हैं।
  10. वे प्रकाश संश्लेषक, रसायन संश्लेषक या विषमपोषी हैं।
  11. इनमें वास्तविक रसधानियाँ नहीं पायी जाती हैं।
  12. कुछ सदस्यों में वायुमंडलीय नाइट्रोजन को ठीक करने की क्षमता होती है।
  13. इनकी कोशिकाओं में 70S-प्रकार के राइबोसोम पाए जाते हैं।
  14. वे सूक्ष्म, एककोशिकीय और प्रोकैरियोटिक कोशिकाओं से बने होते हैं।

मोनेरा से आप क्या समझते हैं इसके महत्वपूर्ण लक्षणों का उल्लेख करें?

सभी प्रोकैरियोटिक जीवों को मोनेरा जगत में शामिल किया गया है। इस संसार के जीव सूक्ष्मतम और सरलतम हैं। ऐसा माना जाता है कि इस संसार के जीव सबसे प्राचीन हैं। मोनेरा जगत के जीव उन सभी स्थानों पर पाए जाते हैं जहाँ जीवन की संभावना बहुत कम होती है, जैसे कि मिट्टी, पानी, हवा, गर्म पानी के झरने (80°C तक), हिमखंडों की तली, रेगिस्तान आदि।

प्राकृतिक वास

बैक्टीरिया सर्वव्यापी हैं। वे गर्म झरनों, रेगिस्तान, बर्फ और गहरे समुद्र जैसे कठोर और शत्रुतापूर्ण आवासों में भी रहते हैं, जहाँ अन्य जीव मुश्किल से जीवित रह पाते हैं। कई बैक्टीरिया अन्य जीवों पर या उनके भीतर परजीवी के रूप में रहते हैं। वे पानी, मिट्टी, हवा, जानवरों और पौधों (जीवित और मृत) में पाए जाते हैं। वे 80'C तापमान पर बर्फ और गर्म पानी के झरनों में भी पाए जाते हैं।

जीवाणुओं से लाभ

इससे प्रतिजैविक दवाएं बनाई जाती हैं। बैक्टीरिया के कारण ही दही जमता है। इस प्रक्रिया को किण्वन कहा जाता है। दही लैक्टोबैसिलस बैक्टीरिया के कारण जमा होता है। पनीर बैक्टीरिया के कारण बनता है। सिरका बैक्टीरिया के कारण बनता है।

जीवाणुओं से हानि

इससे बीमारियां फैलती हैं। बैक्टीरिया के कारण भोजन विषैला या खराब हो जाता है। प्रकृति में मौजूद जीवाणुओं और वायरस के लगातार संपर्क में आने से व्यक्ति का इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है। जीवाणुओं और वायरस यानी वायरस के बारे में जानना बहुत जरूरी है क्योंकि प्रकृति में मौजूद जीवाणुओं और वायरस के लगातार संपर्क में आने से व्यक्ति का इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है।

बैक्टीरिया से बचाव

इससे बचने के लिए खाने की चीजों को अचार या मुरब्बा के रूप में या फिर उनमें नमक मिलाकर रखा जाता है। चीजों को बैक्टीरिया से बचाने के लिए कोल्ड स्टोरेज में रखा जाता है। चीजों को कीटाणुओं से बचाने के लिए गर्म रखा जाता है।

मोनेरा जगत का वर्गीकरण (Classification Of Monera Kingdom)

अध्ययन की सुविधा के लिए मोनेरा जगत को चार भागों में बांटा गया है।

जीवाणु

ये वास्तव में पौधे नहीं हैं। उनकी कोशिका भित्ति का रासायनिक संगठन पादप कोशिका के रासायनिक संगठन से बिल्कुल अलग है। हालांकि कुछ बैक्टीरिया प्रकाश संश्लेषण में सक्षम होते हैं, लेकिन उनमें मौजूद बैक्टीरियोक्लोरोफिल पौधों में मौजूद क्लोरोफिल से काफी अलग होता है।

एक्टिनोमाइसेट्स

इन्हें फंगस बैक्टीरिया भी कहा जाता है। ये वे जीवाणु होते हैं जिनकी संरचना रेशेदार या कवक जाल की तरह शाखित होती है। पहले उन्हें कवक माना जाता था, लेकिन प्रोकैरियोटिक कोशिकीय संगठन के कारण अब उन्हें बैक्टीरिया माना जाता है। स्ट्रेप्टोमीस इस समूह का एक महत्वपूर्ण जीनस है। कई प्रकार के कवक से विभिन्न प्रकार के एंटीबायोटिक्स प्राप्त होते हैं।

आर्कीबैक्टीरिया

ऐसा माना जाता है कि ये सबसे पुराने जीवित जीवों के प्रतिनिधि हैं। इसलिए इनका नाम आर्की यानी जीवाणु रखा गया है। इसलिए इन्हें प्राचीनतम जीवित जीवाश्म कहा जाता है। जिन स्थितियों में वे रहते हैं, उनके आधार पर, बैक्टीरिया को तीन समूहों में विभाजित किया जाता है - मेथनोगेंस, हेलोफिल्स और थर्मोएसिडोफिल्स।

साइनोबैक्टीरिया

साइनोबैक्टीरिया आमतौर पर प्रकाश संश्लेषक जीव होते हैं। उन्हें पृथ्वी पर जीवित प्राणियों का सबसे सफल समूह माना जाता है। संरचना के आधार पर इनकी कोशिकाओं की मूल संरचना शैवाल की अपेक्षा जीवाणुओं से अधिक मिलती है। साइनोबैक्टीरिया को नीले-हरे शैवाल के रूप में भी जाना जाता है। वे कवक से लेकर साइकैड्स तक कई जीवों के साथ सहजीवन के रूप में रहते हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
एक टिप्पणी भेजें (0)

buttons=(Accept !) days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top